बेजुबान मवेशी की मदद को सामने आए सीआरपीएफ के जवान…. सुकमा से पहुंची पशुविभाग की टीम ने किया उपचार

दोरनापाल – सुकमा जिले के मिसमा में मानवता का मिसाल सीआरपीएफ तब बनी जब सड़क दुर्घटना में कैंप के सामने घायल पड़ी बेजुबान मवेशी की मदद के लिए सामने आई मिसमा कैम्प अंतर्गत सीआरपीएफ 2 वीं वाहिनी के जवानों ने मवेशी के घायल होने की सूचना पशु चिकित्सा विभाग को सूचना दी पशु विभाग के उपसंचालक डॉक्टर जहीरुद्दीन ने स्वास्थ्य विभाग की 1 टीम मिसमा भेजी जिसके बाद पशु विभाग की टीम ने मौके पर पशु का उपचार किया जिसके बाद धूप में पड़ी इस मवेशी को उठाकर छाँवदार सुरक्षित जगह शिफ्ट किया और दाना पानी की भी व्यवस्था की । इतना ही नहीं अब जवान उस मवेशी की स्वस्थ होने तक देखभाल भी कर रहे हैं ।

ज्ञात हो कि बीते 1 दिन से हल्की चोट के बाद मवेशी कैम्प के पास पड़ी रही सूचना के बावजूद जब मवेशी मालिक ने अपनी मवेशी का इलाज करवाना जरूरी नही समझा तो सीआरपीएफ बेजुबान की मदद को सामने आई । जवानों ने पूरी जिम्मेदारी के साथ मवेशी की मदद कर मानवता का संदेश दिया कि जिम्मदरियाँ कितनी ही क्यों न हो बेजुबान की मदद करना ही मानवता है ।

Share
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •