वैक्सीन लगाने में भी अंत्योदय कार्ड धारी पहले फिर बीपीएल व एपीएल प्रदेश सरकार की नीति समझ से परे -पार्षद शिवझड़ी सिन्हा

वैक्सीन लगाने में भी अंत्योदय कार्ड धारी पहले फिर बीपीएल व एपीएल प्रदेश सरकार की नीति समझ से परे -पार्षद शिवझड़ी सिन्हा

बेमेतरा/बेरला:-नगर पंचायत बेरला पार्षद शिवझड़ी सिन्हा ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री के द्वारा वैक्सीन लगाने के लिए जो क्राइटेरिया अंत्योदय पहले फिर बीपीएल एपीएल की बातें कहना न्याय संगत नहीं है। मुख्यमंत्री के इस कथन से ऐसा लगता है कि उनके मन मस्तक में गोबर भर गया है। अत्यधिक पीड़ित मरीज यदि उनके पास अंत्योदय कार्ड नहीं है । या बीपीएल कार्ड नहीं है तब तो इस मरीज का भगवान ही मालिक है। शिवझड़ी ने कहा कि इस देश के प्रधानमंत्री जो एक बेहतर सोच के साथ चरणबद्ध तरीके से वैक्सीन लगाने के लिए पहले 60 साल के ऊपर फिर 45 साद के ऊपर अब 1 मई को अट्ठारह साल के ऊपर वाले लोगों को कोरोना से बचने के लिए वैक्सीन लगनी है ऐसे समय में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री वैक्सीन लगाने के लिए जो रास्ता अपनाए हैं वह पूरी तरह गलत है। कोरोना महामारी का बीमारी किसी व्यक्ति को राशन कार्ड देख कर नहीं आता या किसी के पास राशन कार्ड ही नहीं है क्या ऐसे व्यक्ति कोरोना से प्रभावित नहीं हो सकते । सरकार के इस बयान बाजी का सभी लोग निंदा कर रहे हैं। प्रदेश सरकार को टीकाकरण के लिए राशन कार्ड को आधार नहीं बनाना चाहिए। एक तरफ देशभर में देश के प्रधानमंत्री जनता से अपील कर रहे कि ज्यादा से ज्यादा वैक्सीन लगाएं और अपने आप को सुरक्षित करें वहीं दूसरी तरफ इस प्रदेश की सरकार टीकाकरण की राजनीति कर रहे हैं।

Spread the love