Lok Sabha Elections: 2024 में फिर आमने-सामने होंगे राहुल गांधी और स्मृति ईरानी! आखिर कांग्रेस के लिए क्यों जरूरी है अमेठी?

Rahul Gandhi VS Smriti Irani: उत्तर प्रदेश की अमेठी लोकसभा सीट कांग्रेस का गढ़ मानी जाती थी और 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले राहुल गांधी इसी सीट से सांसद हुआ करते थे. साल 2019 के चुनाव में इस सीट से बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी सांसद बनीं और कांग्रेस के किले को भेद दिया. अब एक बार फिर अमेठी की सीट से राहुल गांधी के चुनाव लड़ने की चर्चा शुरू हो गई है.

दरअसल, यूपी कांग्रेस के अध्यक्ष अजय राय ने शुक्रवार (18 अगस्त) को दावा किया कि राहुल गांधी लोकसभा चुनाव 2024 अमेठी से लड़ेंगे. नेहरू-गांधी परिवार की पारंपरिक सीट पर राहुल गांधी एक बार फिर ताल ठोकते नजर आ सकते हैं. इस सीट से परिवार को सिर्फ दो ही बार हार का सामना करना पड़ा है. पहली तब जब संजय गांधी जनता पार्टी के उम्मीदवार रवींद्र प्रताप सिंह से हार गए थे और दूसरी बार तब जब राहुल गांधी बीजेपी उम्मीदवार स्मृति ईरानी से हार गए.

पहली बार अमेठी से सांसद बने राहुल गांधी

राहुल गांधी ने साल 2004 में अमेठी निर्वाचन क्षेत्र से अपनी संसदीय शुरुआत की और 2019 में बीजेपी की स्मृति ईरानी से हारने से पहले उसी सीट से दो लोक सभा चुनाव जीते. फिलहाल रायबरेली से उनकी मां सोनिया गांधी पूरे यूपी से कांग्रेस की एकमात्र सांसद हैं. ऐसे में कांग्रेस की नजर स्मृति ईरानी से अमेठी छीनने पर होगी. राहुल गांधी फिलहाल केरल के वायनाड से सांसद हैं.

क्या बोले अजय राय?

खबरें और भी

 

6sxrgo

इस चर्चा को बल उस वक्त मिल गया जब यूपी कांग्रेस अध्यक्ष अजय राय ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा, “राहुल गांधी निश्चित रूप से अमेठी से चुनाव लड़ेंगे, अमेठी के लोग यहां हैं.” वहीं, पिछले चुनाव में राहुल गांधी को हार का स्वाद चखाने वाली स्मृति ईरानी के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि वो निराश दिखती हैं.

राहुल गांधी बनाम स्मृति ईरानी

 क्षेत्र में स्मृति ईरानी की सक्रिय भूमिका ने बीजेपी की उपस्थिति को मजबूत किया है. अमेठी लोकसभा सीट पर ईरानी के समर्थक केंद्र और राज्य सरकार दोनों के किए गए विकास कार्यों का बखान करते नजर आते हैं.

वहीं, 2019 के चुनावों में अपनी हार के बाद से राहुल गांधी तीन बार अमेठी का दौरा कर चुके हैं और उनके इस निर्वाचन क्षेत्र से फिर से चुनाव लड़ने की संभावना ने स्थानीय पार्टी नेताओं की उम्मीदों को जीवित रखा है. गांधी ने अमेठी में अपनी स्पष्ट उपस्थिति बनाए रखी है, खासकर कोविड-19 महामारी के दौरान जब उन्होंने इस क्षेत्र को राहत सामग्री भिजवाई थी. उनके प्रयासों का स्थानीय पार्टी कार्यकर्ताओं पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है.



IMG-5511
ezgif-com-animated-gif-maker-3


ec5bdc94-a24f-4131-bc9a-2ff8b14e35b8
d225d874-7ee3-4d2a-b5db-cd61fba8beef


प्रदेशभर की हर बड़ी खबरों से अपडेट रहने नयाभारत के ग्रुप से जुड़िएं...
ग्रुप से जुड़ने नीचे क्लिक करें
Join us on Telegram for more.
Fast news at fingertips. Everytime, all the time.

खबरें और भी
14/Jul/2024

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संघ 22 एंव 23 जुलाई को रायपुर में लंबित 27प्रतिशत वेतन वृद्धि एंव नियमितीकरण सहित 18 बिंदु माँग के सम्बंध में हड़ताल…

14/Jul/2024

समाज को सही दिशा देने में महिलाओं की विशेष भागीदारी सुनिश्चित होगी : अध्यक्ष श्री आर पी भतपहरी

14/Jul/2024

CG - वित्त मंत्री ओपी चौधरी ने पेश किया जबरदस्त प्रेजेंटेशन, वर्ल्ड फेम अर्थशास्त्री अरविंद पनगढ़िया ने की सराहना, बोले.....

14/Jul/2024

CG High Court ब्रेकिंग : हाई कोर्ट ने जारी किया आदेश, जजों को अब नौकरी छोड़ने के पहले करना होगा ये काम, तत्काल प्रभाव से लागू हुआ नियम .....

14/Jul/2024

CG Women Molesting : बस पकडऩे पैदल जा रही थी महिला,अकेली देख युवक की बिगड़ी नीयत,फिर…