CG ब्रेकिंग: 4 माह बाद खुला राज: पहले सामान्य मौत मान परिजनों ने किया दाह-संस्कार… शंका होने पर की FIR… फिर जो हुआ… सिद्धबैगा बताकर झाड-फुंक के बहाने मिठाई में जहर मिलाकर हत्या… 4 आरोपी गिरफ्तार….

कवर्धा 12 अप्रैल 2021। झाड-फुंक का झांसा देकर पैसा ऐंठ कर हत्या करने वाले मध्यप्रदेश राज्य से 04 आरोपी को गिरफ्तार किया गया है। आरोपियों ने अपने आपको सिद्धबैगा होने का दांवा कर घटना को अंजाम दिया। झाड-फुंक के झांसे में लेकर प्रसाद के रूप में जहरीला पदार्थ दिया। 02 लाख की रकम हड़पने योजना की थी।bप्रसाद खाने के बाद एक की हुई मृत्यु तो एक को डाॅक्टरो के अथक प्रयास से बचाया गया। सहसपुर लोहारा पुलिस की बारिकी से जांच में मामले का खुलासा हुआ।

जानकारी के मुताबिक दिनांक 01 जनवरी 2021 को ग्राम बुधवारा निवासी सुरेश कौशिक की सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सहसपुर लोहारा में ईलाज के लिए लाते समय मृत्यु हो जाने से मृतक के परिवारजनों द्वारा गांव में जाकर स्वतः अंतिम संस्कार (कफन-दफन) कर दिया गया था। मृतक के शव के दफनाने के 05 दिन बाद दिनंाक 06.01.2021 को मृतक के परिजन द्वारा मृतक के मृत्यु के संबंध में शंका होने एवं जांच हेतु आवेदन पत्र पुलिस चैकी बाजार चारभाठा में प्रस्तुत किया।

प्रकरण में वरिष्ठ अधिकारियों से प्राप्त निर्देशों के आधार पर विधिसंगत् कार्यवाही करते हुए कार्यपालिक मजिस्टेªट के समक्ष मृतक सुरेश कौशिक के शव उत्खनन कार्यवाही कर शव का डाॅक्टरो के संयुक्त टीम द्वारा पोस्टर्माटम किया गया। प्रकरण में घटना क्षेत्र थाना सहसपुर लोहारा का होने से प्रकरण की अग्रिम जांच कार्यवाही हेतु पुलिस अधीक्षक कबीरधाम द्वारा थाना सहसपुर लोहारा को सौंपा गया।

प्रकरण में मर्ग जांच दौरान विशेषज्ञ डाॅक्टरों से प्राप्त रिपोर्ट, पोस्टमार्टम रिपोर्ट, गवाहों के कथन एवं जांच पर प्राप्त तथ्यों के आधार पर मृतक के मृत्यु के अज्ञात कारणों के संबंध में पुलिस अधीक्षक कबीरधाम के दिशा-निर्देश पर थाना प्रभारी सहसपुर लोहारा के नेतृत्व में टीम तैयार कर प्रकरण हर पहलू की बारिकी से जांच पड़ताल प्रारंभ की गयी। जांच के क्रम में पुलिस टीम को इस तथ्य की जानकारी हुई कि मृतक सुरेश कौशिक अपने मित्र रामफल कौशिक एवं उसके पिता हरिशंकर कौशिक के साथ ग्राम जगला जंगल में किसी बैगा से मिलने एवं झाड़-फुंक पुजा पाठ कराने गये थे। उसी दौरान रामफल एवं सुरेश की तबियत खराब हो गई। जहां से ईलाज के लिए सहसपुर लोहारा लाते समय सुरेश की मृत्यु हो गई एवं रामफल को गंभीर अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

जिसका निजी अस्पताला रायपुर में ईलाज कराकर डाॅक्टरो के अथक मेहनत से बचाया गया। प्रकरण से संबंधी सभी तथ्यों एवं व्यक्तियों से पुछताछ जांच से सभी कड़ीयों को आपस में मिलाने पर प्रकरण चैकाने वाले तथ्य सामने आयें कि रामफल एवं सुरेश एवं उसके परिवार के साथ गांव वालों का आपसी सांमजस्य ठीक नहीं होने से झाड-फुंक के माध्यम से गांवो वालो से सांमजस्य ठीक करने का आश्वासन स्वंय को सिद्ध बैगा बताने वाले भजन से पूर्व परिचित सुंदर यादव निवासी जगला के माध्यम से जानकारी मिलने पर मृतक सुरेश एवं रामफल दिनांक 30.12.2020 को सुंदर के माध्यम से ग्राम जगला में सुंदर के घर में झांड-फुंक करने वाले भजन निवासी बालाघाट एवं उसके सहयोगी प्रमोद एवं विनोद सभी निवासी बालाघाट से मिले जहां आटा को इनके सामने हाथ की सफाई से लाल रंग में बदल कर भजन द्वारा अपने को सिद्ध बैगा बताकर प्रभाव एवं झांसे में लिया गया और गांव में दोनों परिवार का सामंजस्य पुनः स्थापित करने का झांसा देकर 02 लाख रूप्ये की मांग रखी गयी।

रामफल और सुरेश भजन एवं उसके साथियों के झांसे में आ गये और दिनंाक 31.12.2020 को रामफल गांव से 02 लाख रूप्ये की व्यवस्था करने वापस आ गया और साथी सुरेश काम कराने की नियत से वहीं रूका रहा। रामफल पैसा की व्यवस्था कर वापस अपने पिता के साथ आरोपियों के बताये निर्जन, सुनसान खर्राधार के पास शमशान घाट पहूंचा जहां पर आरोपियों द्वारा पहले लाये गये रकम देखा गया। उसके बाद मुख्य आरोपी भजन के द्वारा नदी किनारे पेड़ ने नीचे आसान लगाकर झाड-फुंक करने का डोंग करने लगा और लाये गये रकम को वहीं रखवाया गया एवं उसके साथी सुरेश, रामफल एवं हरिशंकर को भजन को सिद्ध बैगा होने निश्चित काम होने का झांसा देने लगे।

इसी मौके का फायदा उठाकर भजन द्वारा झाड-फुंक मंे रखे गये प्रसाद मंे जहरीला पदार्थ मिला दिया और बारी-बारी से अपने हाथ से प्रसाद सभी को बुलाकर दिया। प्रसाद खाने के कुछ देर बाद ही सुरेश और रामफल अचेत अवस्था में आ गये। ये सब देखकर हरिशंकर को भजन एवं उसके साथियों पर शंका होने से रखे गये रकम को अपने पास वापस रख लिया और दोनों की तबियत खराब होने की बात बोलकर झाड-फुंक बंद करने बोलकर दोनो लड़को को साथ लेकर ईलाज के लिए सहसपुर लोहारा (जिला कबीरधाम) सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र लाये जहां डाॅक्टर द्वारा सुरेश कौशिक की मृत्यु हो जाना एवं रामफल कौशिक की हालात गंभीर होने से उचित ईलाज के लिए रायपुर रिफर कर दिया जाना बताया गया।

जिस आधार पर वरिष्ठ अधिकारियों से प्राप्त निर्देशों के आधार पर आरोपियों के मिलने के संभावित स्थानों पर दबिष देकर आरोपी – सुंदर लाल यादव पिता बैशाखुराम यादव उम्र 45 साल निवासी जगला थाना बिरसा, भजनदास पिता घुनुदास मानिकपुरी उम्र 38 साल निवासी वार्ड नंबर 23 जिला बालाघाट, प्रमोद पसिने पिता रमाकांत पसिने उम्र 42 साल निवासी वार्ड नंबर 04 बालाघाट, विनोद कुमार पिता पुनाराम कलार उम्र 51 साल निवासी गर्रा थाना वारासिवनी जिला बालाघाट मध्यप्रदेश को हिरासत में लेकर पुछताछ करने पर झाड-फंुक करने का झांसा देकर मृतक एवं उसके साथी द्वारा लाये पैसा को हड़पने की नियत से मिठाई में जहर मिलाकर प्रसाद के रूप में खाने देकर दोनो के बेहोश होने पर पैसा लेकर भाग जाने की योजना बनाये थे। जो योजना मुताबिक सफल नहीं हो पाये।

आरोपियों द्वारा मिठाई में जहर मिलाकर सुरेश एवं रामफल को खिलाने से जहां सुरेश की सहसपुर लोहारा अस्पताल लाते समय रास्ते मेे मृत्यु हो गई। वहीं रामफल को गंभीर अवस्था में निजी अस्पताल रायपुर में ईलाज कराया गया। जहां डाॅक्टर के अथक प्रयास से रामफल को बचाया गया। आरोपियों का उक्त कृत्य अपराध धारा 302 ,307,328,120बी,34 भादवि0 छ.ग.टोनही प्रताडना निवारण अधिनिमय 2005 की धारा -7 का होने एवं आरोपियों के विरूद्ध पर्याप्त साक्ष्य मिलने पर आरोपियों को विधिवत् गिरफ्तार कर रिमांड में भेजा गया है। प्रकरण के अन्य तथ्यों पर विवेचना जारी है।

Spread the love