210 मौतें BIG CG ब्रेकिंग: थम नहीं रही मौत और मरीज की रफ्तार… रायपुर-बिलासपुर में मौत का तांडव जारी… इन जिलों में कोरोना की रफ्तार बेहद खतरनाक… आज फिर मिले करीब 16 हजार नए केस… 11 हजार से ज्यादा हुए ठीक… देखिए कहां कितने मरीज और कहां कितनी मौत….

रायपुर 4 मई 2021। छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस संक्रमण का ग्राफ थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब तक 7 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। आज 15785 नए मरीज मिलने की पुष्टि हुई है। प्रदेश में लगातार बढ़ती संक्रमित मरीजों की संख्या चिंता जनक है। अब छत्तीसगढ़ में कुल एक्टिव मरीज 124459 हो गए हैं।

आज 15785 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज़ों की पहचान हुई वहीं 11308 मरीज़ स्वस्थ होने के उपरांत डिस्चार्ज/रिकवर्ड हुए। राज्य में स्वस्थ होने के उपरांत डिस्चार्ज /रिकवर्ड हुए मरीज़ों की संख्या 653542 है।

स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के मुताबिक दुर्ग 899, राजनांदगांव 626, बालोद 454, बेमेतरा 260, कबीरधाम 463, रायपुर 1008, धमतरी 580, बलौदाबाजार 733, महासमुंद 554, गरियाबंद 298, बिलासपुर 1223, रायगढ़ 1220, कोरबा 1206, जांजगीर-चांपा 1283, मुंगेली 615, जीपीएम 299, सरगुजा 697, कोरिया 511, सूरजपुर 522, बलरामपुर 451, जशपुर 633, बस्तर 195, कोंडागांव 302, दंतेवाड़ा 76, सुकमा 45, कांकेर 551, नारायणपुर 38, बीजापुर 41, अन्य राज्य 2 कोरोना पॉजिटिव मिले हैं।

स्वास्थ्य विभाग के कल दिये आंकड़ों के मुताबिक कुल 9275 लोगों की मौत हुई थी, जबकि आज मौत का आंकड़ा 9485 पहुंच गयी है। इस प्रकार 210 नए लोगों की मौत हुई है।

छत्तीसगढ़ राज्य में अब तक कुल 787486 संक्रमित मिले है,जिसमें 653542 मरीज स्वस्थ्य हो चुके है। 9485 की मृत्यु हो चुकी है। शेष 124459 मरीजों का उपचार जारी है।प्रदेश में लगातार बढ़ती संक्रमित मरीजों की संख्या चिंता जनक है।

जिलेवार पूरी सूची देखने के लिए क्लिक करें…..

कोरबा कोरोना अपडेट

पिछले चौबीस घंटो में जिले के 12 कोरोना संक्रमितो का निधन
मृतकों में 10 पुरुष और 02 महिला मरीज़ शामिल
अरबी अस्पताल बिलासपुर में 01, बालाजी कोविड अस्पताल में तीन, NKH में दो,स्याहमुढी कोविड अस्पताल में दो, संजीवनी अस्पताल रायपुर में दो, विनायक हॉस्पिटल पाली में एक और ईसीटीसी अस्पताल जाँजगीर में एक मरीज़ ने ईलाज के दौरान दम तोड़ा…

कोरोना संक्रमण से निपटने के लिये अमरीका के मेयो क्लिीनिक और छत्तीसगढ़ सरकार के बीच सहयोग होगा

अमेरिका के प्रसिध्द मेयो क्लीनिक के डॉक्टर छत्तीसगढ़ सरकार के साथ सहयोग करके कोरोना संक्रमण से निपटने में सहायता करेंगे । कल शाम छत्तीसगढ़ के माननीय स्वास्थ्य मंत्री श्री टी. एस. सिंहदेव की इस संबंध में मेयो क्लिीनिक की डॉ. प्रिया संपतकुमार से वीडियो कांफ्रेंसिंग द्वारा एक बैठक हुई। बैठक में निर्णय लिया गया कि मेयो क्लिीनिक के डॉक्टरों द्वारा छत्तीसगढ़ के चिकित्सकों और पैरामेडिल स्टाफ को प्रशिक्षण दिया जायेगा। इसके अतिरिक्त राज्य के चिकित्सक, छत्तीसगढ़ के मरीजों के संबंध में मेयो क्लिीनिक के डाक्टरों के साथ चिकित्सकीय परामर्श भी कर सकेंगे। इस सहयोग से छत्तीसगढ़ के कोरोना मरीजों को बड़ा लाभ मिलेगा।

इमरजेंसी केयर टेक्निशियन (ECT) पाठ्यक्रम राज्य के सभी मेडिकल कॉलेजों में होगा प्रारंभ |

कोविड महामारी के दौरान इमरजेंसी केयर की अत्यंत आवश्यकता होती है। इसको ध्यान में रखते हुए राज्य के सभी मेडिकल कॉलेजों में इमरजेंसी केयर टेक्निशियन का 01 वर्षिय सर्टिफिकेट प्रशिक्षण पाठ्यक्रम प्रारंभ किया जा रहा है। इसमें प्रवेश के लिए 12वीं परीक्षा फिजिक्स, केमेस्ट्री, बायोलॉजी के साथ उत्तीर्ण होना आवश्यक होगा। इस कोर्स में एक्सरे, पेथोलॉजी, पैरामेडिकल टेक्निशियन आदि के पाठ्यक्रम संचालित किए जाएंगे। प्रदेश के 06 शासकीय मेडिकल चिकित्सा महाविद्यालय रायपुर, बिलासपुर, जगदलपुर, रायगढ़, राजनांदगांव व अम्बिकापुर में यह पाठ्यक्रम शीघ्र ही संचालित किया जाएगा।

रायपुर के तीन अस्पतालों के विरुद्ध हुई कार्यवाही, मरीजों की शिकायत के आधार पर निरीक्षण दल ने की जांच :

राज्य शासन ने दिनांक 03.05.2021 को निर्देश जारी किए थे कि जो भी अस्पताल अपनी संस्था में उपलब्ध बेड की जानकारी यदि मरीजों को गलत देंगें तो उनके विरुद्ध कार्यवाही की जाएगी। इसी क्रम में रायपुर जिले के अस्पतालों का विभिन्न दलों ने निरीक्षण किया और तीन अस्पतालों पर कार्यवाही की गई। बांठिया अस्पताल द्वारा मरीज से निर्धारित दर से अधिक राशि लिए जाने की शिकायत मिलने पर मरीज को शेष राशि लौटाई गई। अस्पताल ने मरीज से दो लाख 70 हजार लिए थे जबकि निर्धारित दर के अनुसार एक लाख 17 हजार की राशि लेनी थी। शेष राशि 1 लाख 53 हजार मरीज को तुरंत वापस किए गए।

इसी प्रकार बालाजी अस्पताल और हेरिटेज अस्पताल द्वारा मरीज को आक्सीजन बेड उपलब्ध नही है ऐसा कहा गया जबकि बेड एवलेबिलिटी पोर्टल में क्रमशः 23 और 25 आक्सीजन बेड इनमें उपलब्ध थे। इस संबंध में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ अधिकारी रायपुर द्वारा अस्पतालों से स्पष्टीकरण मांगा गया है। निरीक्षण दल निरंतर इसी प्रकार निरीक्षण करते रहेंगे ताकि मरीजों को किसी भी प्रकार की कोई असुविधा न हो ।

Spread the love